What Is Capacitor & What The Uses In Our Life



capacitor_theory_in_hindi
What is Capacitor
  कैपेसिटर का नाम तो आपने जरूर सुना होगा, हो सकता है देखा भी हो । जिन लोगों ने नहीं देखा वह लोग अपने घरों की divisec में देख सकते हैं जैसे कि रेडियो और टेलीविजन वगैरा-वगैरा में कैपेसिटर लगा रहता है अगर वहां भी नहीं मिलता तो आप खुले जगह पर जाइए और आसमान में देखिए आपको केपेसिटर नजर आएगा ।
                      अब आप सोचेंगे ऐसा कैसे हो सकता है यह सच है क्योंकि आसमान में जो बादल  नजर आते हैं वह भी एक प्रकार का कैपेसिटर ही हैं । दोस्तों कैपेसिटर का मुख्य कार्य होता है स्टोर करना ।
           कैपेसिटर को कंडेनसर भी कहा जाता है । यह Energy-Storage Device  होते हैं, जिनका इस्तेमाल टेलीविजन, रेडियो, और भी दूसरे प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक इक्विपमेंट में  किया जाता है । चाहे रेडियो को किसी Station में Tune करना हो, चाहे किसी कैमरा से फोटो लेने के लिए Flash करना हो, इन सभी जगहों पर कैपेसिटर का अच्छा इस्तेमाल किया जाता है ।
        बादल  भी electronic circuit  मे  इसका इस्तेमाल capacitor की तरह ही काम करते हैं, बस फर्क इतना रहता है कि, इलेक्ट्रॉनिक कैपिटल के तुलना में यह काफी बड़े होते हैं । तो चलिए इसके  बारे में पूरी डिटेल से जान लेते हैं कि आखिर Capacitor क्या है और Capacitor कैसे काम करता है ।

     पढ़ें.... » 5G क्या है? कब होगी इंडिया में लांच ?
              » PenDrive क्या है, कैसे काम करता है PenDrive
               » Search Cansole क्या है ?? कैसे मदद करती                         है  Search Cansole ?

कैपेसिटर क्या है ??(What is capacitor ? )

दोस्तों कैपेसिटर कैसे इलेक्ट्रॉनिक Equipment होते हैं जो Energy को स्टोर करते हैं । पहले capacitor को Condenser भी कहा जाता था, लेकिन बाद में इसे Capacitor कहा जाने लगा । एक  कैपेसिटर इलेक्ट्रिक Conductor से बने होते हैं, और  Insulater द्वारा Seperate होते हैं । इस इंसुलेटिंग Layer को DiElectric कहा जाता है । Capacitor में समान बेसिक principal component इस्तेमाल होते हैं । लेकिन Meterial की Choice और Configuration एक दूसरे से अलग होती है । किसी भी इलेक्ट्रिकल या इलेक्ट्रॉनिक circuit के उदाहरण के लिए,  इसका इस्तेमाल AC Current को Allow करने के लिए किया जाता है, और DC Current को Block करने के लिए । कुछ जगहों पर Smooth Power Supply Output के लिए इस्तेमाल किया जाता है ।



कैपेसीटर कैसे काम करता है ( How work capacitor ):-

दोस्तों मैंने पहले ही बताया था की capacitor का काम होता है एनर्जी को स्टोर करना ‌। capacitor एनर्जी को स्टोर करने के लिए  एक Electrostatic Feild में, जोकी Generated  होता है, Conductor के Across Potential Diffrence Create  होने से । इसलिए जब किसी Conductor के Across, Voltage  दिया जाता है,  तब कैपेसिटर के एक Plate में Positive Charge और दूसरे प्लेट में Negative Charge होता है ।


Capacitor
Capacitor

             Electric charge और potential difference (  Voltage ) की Ratio  को Capacitance कहा जाता है । इसकी इकाई Farade है और Farade में ही इसे मापा जाता है। यही सबसे मेन पैरामीटर होती है किसी के पास इसे को Described करने के लिए । सबसे ज्यादा कैपेसिटेंस तब होती है जब कंडक्टर के बीच स्तंभ की दूरी कम हो, और कंडक्टर का सबसे ज्यादा हो ।
           conductors & lead wire parasitic inductance and resistance पैदा करते हैं । Static electric field की अपनी ही Maximum strength की  limit होती है । जिसे breakdown voltage से  describe किया जाता है, साथ में dielectric से जो current leak  होता है उसे leakage current कहा जाता है ।


कैपेसिटर के प्रकार ?? (Types of capacitor )

1. Ceramic Capacitor

2. Electrolytic capacitor

3. Tantalum capacitor

4. Silver mica capacitor

5. Polystyrene film capacitor

6. Polyester film capacitor

7. Glass capacitor

8. Supercap capacitor



कैपेसिटेंस को कैसे बढ़ाया जा सकता है  ??

एक capacitor कितने amount में electric energy को स्टोर करती है इसे capacitance ने कहा जाता है । Capacitor के  capacitance  को बढ़ाने के तीन मुख्य उपाय हैं  :-

1. Surface area :-  surface area को A से indicate किया जाता है । दो कंडक्टिव प्लेट्स जो कि मिलकर के एक कैपेसिटर बनाते हैं, उन दोनों के बीच जितना बड़ा क्षेत्रफल होगा, वह कैपेसिटर उतना ज्यादा एनर्जी को स्टोर कर पाएगा।


2. Distance :- Distance को d से सूचित किया जाता है   । अगर दोनों कंडक्टिव प्लेट्स के बीच की दूरी को कम कर दिया जाए तो उस कैपेसिटर का कैपेसिटेंस बढ़ सकता है ।


3. Dielectric Material :- ‌ दोनों कंडक्टिव प्लेट्स के बीच का material, जो दोना प्लेट को separate करता है, जिसे dielectric भी कहा जाता है, इस dielectric की जितनी ज्यादा permittivity होगी वह कैपेसिटर उतना ज्यादा एनर्जी स्टोर कर पाएगा ।

     पढ़ें...... › Web Hosting क्या है ???
                 › Custom Robots Heder Tag कैसे Set करें
                › New Blog में Basic Settings कैसे करें ?


कैपेसिटर हमारे लिए क्या काम करता है ‌ ???

दोस्तों कैपेसिटर को हम बहुत से कार्यों में इस्तेमाल कर सकते हैं और कर भी रहे हैं, चलिए इन के बारे में भी थोड़ा जान लेते हैं ।

1. कैपेसिटर का इस्तेमाल इलेक्ट्रिक एनर्जी को स्टोर करने के लिए होता है, इसलिए इसे कैमरे में Flash के तौर पर यूज किया जाता है । साथ में लेजर लाइट भी इस टेक्निक का इस्तेमाल करते हैं , ताकि उन्हें अच्छी ब्राइटनेस और instantaneous वाले flash मिले ।


2. कैपेसिटर का इस्तेमाल ripples हटाने के लिए भी किया जाता है । एक लाइन जिसने की DC Voltage प्रवाहित होता है, और अगर उसने spikes या ripples आ जाता है, एक बड़े कैपेसिटर का इस्तेमाल कर उस ripples या spikes को हटाया जा सकता है। 

3. कैपेसिटर डीसी वोल्टेज को ब्लॉक कर सकता है । इसलिए अगर हम एक छोटे कैपेसिटर के बीच कोई बैटरी लगा दे, बैटरी के दोनों पोल्स के बीच अगर वो capacitor चार्ज हो जाए तब,  उसमें करंट प्रवाह नहीं होगा । 

Conclusion :-

दोस्तों आशा है कि अब आप समझ गए होंगे कि कैपेसिटर क्या है, कैपेसिटर कैसे काम करता है, और हमारी रियल लाइफ में कैपेसिटर का क्या प्रयोग है।  अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस  इस पोस्ट को अपने फ्रेंड्स के साथ साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर करें | धन्यवाद  |