आज मार्केट में डुअल कैमरा फोन (Dual Camera Mobile Phone) का Trend छाया हुआ हैं क्या आप जानते हैं। मोबाइल फोन में डुअल कैमरा क्यों दिया होता है? डुअल कैमरे का काम क्या है? मोबाइल फोन का डुअल कैमरा कैसे काम करता है?

what is dual camera
what is dual camera

आजकल स्मार्टफोन मेकर कंपनीयां मोबाइल कैमरा क्वालिटी (Mobile Camera Quality) को बेहतर बनाने में प्रयत्नशील है। कुछ बेस्ट कैमरा क्वालिटी फोन्स में हमें बेहतरीन कैमरा इफैक्ट देखने को मिलता है। अब तो कंपनीयां स्मार्टफोन कैमरों में डुअल कैमरा फोकस (Dual Camera Focus) दे रही है जिससे यह पहले से ज्यादा और अधिक बेहतर हो गई है। आज हम जानेंगे कि डुअल कैमरा फोन से बैकग्राउंड ब्लर कैसे होता है? साथ ही यह जानने की कोशिश करेंगे डुअल कैमरा में फोटो क्वालिटी बेस्ट होती है या सिंगल कैमरा फोन में !





क्या हैं ड्यूल कैमरा !

आजकल स्मार्टफोन कंपनीयां बाजार में ऐसे स्मार्टफोन मोबाइल लांच कर रही है जिनमे दो कैमरे एक साथ लगे होते हैं। मतलब ये कि एक फोटो को खीचने के लिए दो कैमरे. डुअल लैंस कैमरा तकनीकि एक नई टेक्नोलॉजी है जिसमें एक पिक्चर फोकस के लिए डुअल कैमरे का इस्तमाल होता है ! यानी की एक फोटो के और भी आयाम हो सकते हैं और उसे कैप्चर कारण ही इस ड्यूल कैमरा का काम हैं , इस से कैमरा में बेस्ट फोकस होता है और फोटो बहुत ही क्लीन और अच्छा आता है ?




कैसे काम करता हैं ड्यूल कैमरा !

मोबाइल फोन में लगे सिंगल कैमरे से फोटो खीचने पर कैमरे का फोकस ऑब्जेक्ट में सीधे पढता है जिससे यह ऑब्जेक्ट और कैमरे के बीच की दूरी को कैल्कुलेट नही कर पाता जिसके कारण फोटो खींचने पर यह फोटो के बेकग्राउंट को भी अपने एंगल में ले लेता है जिसके कारण फोटो का बैकग्राउंड भी क्लीयर दिखाई देता है। एक ऑब्जेक्ट में एक ही कैमरे फोकस करने पर फोटो क्वालिटी भी नार्मल रहती है। Dual Camera Mobile से फोटो खीचने पर यह एक प्रकार का त्रिभुजाकर एंगल बनाता है क्योंकि इसमें लगे दोनो कैमरे फोकस पर तिरछे पढते हैं जिससे यह कैमरे और ऑब्जेक्ट के बीच की दूरी को आसानी से कैल्कुलेट कर सकते हैं जिसके कारण कैमरे का फोकस ऑब्जेक्ट से आउट नहीं होता और हमें एक बेहतरीन बैकग्राउंड ब्लर फोटो देखने को मिलती है डुअल कैमरा मोबाइल (Dual Camera Mobile) में यह प्रक्रिया बहुत तेजी से होती है। एक फोटो को दो दो लैंसो से खीचने पर फोटो की क्वालिटी भी बढ जाती है जिससे फोटो को जूम करने पर उसकी क्वालिटी कम नहीं होती है !




क्याहो सकती है 7 कैमरा वाला स्मार्टफोन ?

इसकी कहानी शुरू होती है उन स्मार्टफोन्स से जिनमें आपको 1 रियर और 1 फ्रंट कैमरा मिलता था। इसके बाद Dual Camera का दौर आया, जिसमें आपको 2 रियर और 1 फ्रंट कैमरा मिलता है। इसके बाद कुछ स्मार्टफोन कंपनियां ने Triple Camera के कॉन्सेप्ट को यूजर्स के सामने रखा। इनमें 2 रियर और 2 फ्रंट कैमरा या फिर 3 रियर और 1 फ्रंट(Huawei P20 Pro) कैमरा शामिल हैं। वहीं हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक Nokia 9 में 7 कैमरे दिए जा सकते हैं, जिनमें 5 शूटर्स इसके बैंक में होंगे और 2 फ्रंट में। ऐसे में फिर से वही सवाल कि एक स्मार्टफोन में अच्छी फोटो के लिए कितने कैमरे जरूरी हैं ?



कब आया था पहला ड्यूल कैमरा स्मार्टफोन ?

ड्यूल कैमरा स्मार्टफोन सबसे पहले साल 2011 में देखने को मिला था। HTC Evo 3D स्मार्टफोन में ड्यूल कैमरा सेटअप इस्तेमाल किया गया था ताकि 3D तस्वीरें ली जा सकें। इन्हें स्मार्टफोन की 3D स्क्रीन पर देखा जा सकता था। इसके बाद इस टेक्नॉलजी के साथ एक्सपेरिमेंट किए जाते रहे, मगर आइडिया कामयाब नहीं हुआ। साल 2014 में HTC One M8 में ड्यूल कैमरा सेटअप लगा हुआ था। यह काफी शानदार डेप्थ ऑफ फील्ड इफेक्ट कैप्चर करता था



ये भी पढ़ें -

Google Pixel 3,Google Pixel 3 xl,Google Pixel 3 (Just Black, 128 GB) (4 GB RAM),dual camera kya hain. kya hai dual camera kyo haidual caamera ?